पटना, बिहार विधानसभा सचिवालय में मंगलवार को 11 अधिकारी व कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए। इसके बाद सचिवालय कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा के आदेश पर मंगलवार को सभी अधिकारी व कर्मचारियों की जांच कराई गई थी। 87 लोगों की जांच में 11 कोरोना संक्रमित पाये गए।इसके साथ ही दफ्तर आने वाले अफसर एवं कर्मियों की संख्या को गृह विभाग के आदेशानुसार नियंत्रित करने को कहा गया। 30 अप्रैल 2021 तक सभा सचिवालय के अवर सचिव एवं समकक्ष तथा उससे उपर स्तर के पदाधिकारी के शत प्रतिशत कार्यालय आयेंगे जबकि इनके अधीनस्थ कर्मियों को प्रतिदिन बारी-बारी से 33 प्रतिशत उपस्थित होने संबंधी आदेश दिया गया है।

विधान परिषद के एक और कर्मी की कोरोना से मौत

बिहार विधान परिषद के एक और कर्मी की कोरोना से मौत हो गई। अब तक परिषद सचिवालय के 18 कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए। लिहाजा परिषद कार्यालय को 18 अप्रैल तक बंद कर दिया गया। परिषद के जनसंपर्क अधिकारी अजीत रंजन ने बताया की मंगलवार को कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह ने सहायक विजेंद्र कुमार शर्मा की मृत्‍यु पर शोक सभा आयोजित किया। शोक व्‍यक्‍त करने के पश्‍चात सभापति ने बिहार विधान परिषद् को 18 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया है। सभापति ने सभी कार्यालय कर्मियों के लिए कोरोना जांच की व्‍यवस्‍था कार्यालय में की गई थी। अब तक 18 कर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

अगस्त 2020 की तुलना में संक्रमण दर बढ़ी

30 अगस्त 2020 को राज्य में 1,07,730 सैंपल की जांच हुर्ई थी, जिनमें 2078 संक्रमित मिले थे। तब राज्य में संक्रमण की दर 1.92% थी। जो वर्तमान की संक्रमण दर से तुलनात्मक रूप से कम है। गौर हो कि राज्य में पिछले वर्ष 12 अप्रैल तक मात्र 60 संक्रमितों की पहचान हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here