जय भीम सेवा संस्थान के अध्यक्ष व सचिव समेत सात सदस्यों पर दर्ज की गई प्राथमिकी
लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी के आदेश पर हुई एफआईआर


बजरंगी कुमार सुमन
की रिपोर्ट
सासाराम (goodmorning news desk) ।
रोहतास जिले के नोखा नगर पंचायत अंतर्गत घरों के होल्डिंग की मापी कर नए सिरे से होल्डिंग नम्बर प्लेट लगाने के काम में हजारों रुपये गबन का मामला सामने आया है। दरअसल नगर पंचायत के तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी सुरेश राम ने एनजीओ भीम सेवा संस्थान को यह काम सौंपा था। एनजीओ को सभी घरों से 40 रुपये लेकर नंबर प्लेट लगाने के लिए निर्देश दिया था लेकिन एनजीओ ने इसके नाम पर राशि तो वसूल की पर घरों में होल्डिंग नम्बर प्लेट नहीं लगाए ।

जिस पर नगर पंचायत नोखा निवासी विश्व मोहन प्रसाद ने जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी के पास अपील की थी । जिला लोक शिकायत निवारण अधिकारी के निर्देश पर एनजीओ पर प्राथमिकी दर्ज करते हुए उसके कमेटी के अध्यक्ष उमेश कुमार सचिव प्रदीप कुमार सहित सात लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया ।

नोखा नगर पंचायत कार्यपालक पदाधिकारी बसंत कुमार।


कार्यपालक पदाधिकारी ने कराई एफआईआर
नोखा नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी बसंत कुमार ने स्थानीय थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। कार्यपालक ने जय भीम संस्था के अधिकारियों सहित सदस्यों के ऊपर जनता के साथ धोखाधड़ी करते हुए वसूली गई राशि के गबन का आरोप लगाया है। दर्ज प्राथमिकी में काराकाट थाना क्षेत्र के गोडारी गांव निवासी स्व. नरसिंह ठाकुर के पुत्र व जय भीम सेवा संस्थान के अध्यक्ष उमेश कुमार, नाद गांव निवासी हरिहर राम के पुत्र व एनजीओ के सचिव प्रदीप कुमार, लोरी बांध निवासी मोतीलाल राम के पुत्र व एनजीओ के कोषाध्यक्ष नंदलाल राम, नाद गांव निवासी स्व. नगीना राम के पुत्र वीरेंद्र राम, इंद्रहिंया करूप गांव निवासी शिवचरण राम के पुत्र अक्षय कुमार, नाद गांव निवासी विनोद कुमार चौधरी की पत्नी राधिका देवी, फुलेंद्र राम की पत्नी केसिया देवी सहित कुल 7 लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। जिनके ऊपर नोखा नगर पंचायत क्षेत्र के 2118 घरों का संरक्षण कार्य करने के पश्चात 1646 घरों से प्रत्येक घर ₹40 के हिसाब से कुल 6584 रुपए की वसूली करने के बावजूद होल्डिंग नंबर प्लेट नहीं लगाए जाने का आरोप नगर पंचायत के कार्यपालक ने लगाया है।

2017 में जारी हुआ था कार्यादेश
नोखा नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी बसंत कुमार द्वारा जय भीम सेवा संस्थान के अध्यक्ष और सचिव के अलावे दो महिला सदस्यों सहित कुल 7 लोगों को जनता के साथ धोखाधड़ी करते हुए राशि का गबन करने की प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। इस मामले का कार्य आदेश ढाई साल पूर्व 7 सितंबर 2017 को नगर पंचायत के कार्यालय के पत्रांक 2111 द्वारा जारी किया गया है। ढाई साल बाद नगर पंचायत कार्यालय द्वारा 12 दिसंबर 2020 को जारी पत्रांक 1230 के द्वारा जय भीम सेवा संस्थान को लंबित कार्य जल्द से जल्द करने की चेतावनी भी दी गई। बावजूद इसके कार्य नहीं किए जाने के कारण कार्यपालक पदाधिकारी बसंत कुमार ने 21 दिसंबर 2020 को जारी पत्रांक 1265 द्वारा नोखा थानाध्यक्ष को पत्र प्रेषित कर मामले में प्राथमिकी दर्ज करने का आवेदन दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी बसंत कुमार के आवेदन के आलोक में प्राथमिकी दर्ज हो चुकी है।

नगर पंचायत की सियासत में आ सकता है भूचाल
नोखा नगर पंचायत में पिछले ढाई साल से धूल फांक रहे होल्डिंग सर्वेक्षण और होल्डिंग प्लेट लगाने के इस मामले में महिला सहित कुल 7 लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज होने के पश्चात नोखा नगर पंचायत की सियासत में भूचाल आने की आशंका रणनीतिकारों ने जाहिर की है। इसके साथ ही इस मामले में कई और लोगों को भी लपेटे में आने की संभावना भी जताई है। मामला जिला अधिकारी रोहतास के न्यायालय में लंबित होने का जिक्र नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी ने थाना को लिखे अपने पत्र में किया है। पिछले 17 दिसंबर को आयोजित नोखा नगर पंचायत की बैठक में एक दर्जन से अधिक पार्षदों ने मुख्य पार्षद के विरोध में मुखर होते हुए उप मुख्य पार्षद राजेंद्र कुमार सिंह के नेतृत्व में बैठक का बहिष्कार किया था। तब से लेकर नगर परिषद में राजनीतिक भूचाल आया हुआ है। ऐसे में दर्ज हुई प्राथमिकी इस राजनीतिक भूचाल की आग में निसंदेह घी का काम करेगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here