पटना. बिहार में पंचायत को लेकर उल्टी गिनती शुरु हो गई है. चुनाव मल्टी पोस्ट ईवीएम से नहीं होगा। अब विधानसभा और लोकसभा चुनाव की तर्ज पर सिंगल पोस्ट ईवीएम से ही चुनाव होंगे.

इसके लेकर केंद्रीय व राज्य निर्वाचन आयोग के बीच लगभग सहमति बन गई है। अब इसे अंतिम रूप दिया जाना बाकी है। मल्टी पोस्ट ईवीएम पर अनापत्ति प्रमाण पत्र को लेकर बुधवार को दिल्ली में केंद्रीय चुनाव आयोग व बिहार के चुनाव आयोग के अधिकारियों की बैठक हुई।

बैठक में केंद्रीय चुनाव आयोग के सेक्रेटरी ईवीएम के अलावा आयोग की टेक्निकल टीम और ईवीएम बनाने वाली कंपनी इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (इसीआईएल) के प्रतिनिधि भी शामिल थे। दूसरी ओर बिहार राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव योगेंद्र राम आयोग का पक्ष रखने गए थे।

मल्टीपोस्ट ईवीएम और सिंगल ईवीएम में अंतर
मल्टी पोस्ट ईवीएम में एक कंट्रोल यूनिट के साथ छह बैलट यूनिट को जोड़ा जा सकता है। सिंगल पोस्ट ईवीएम में एक कंट्रोल यूनिट के साथ एक बैलट यूनिट जुड़ेगा। बिहार में छह पदों के लिए पंचायत चुनाव होना है, इसलिए राज्य निर्वाचन आयोग ने मल्टी पोस्ट ईवीएम से चुनाव का निर्णय लिया था।

सभी डीएम से पंचायतों की ताजा स्थिति पर मांगी रिपोर्ट
राज्य निर्वाचन आयोग ने नगर विकास एवं आवास विभाग द्वारा अधिसूचित, नवगठित, उत्क्रमित व क्षेत्र विस्तार किए गए नगर निकायों के बाद सभी जिलों के डीएम से पंचायतों की वर्तमान स्थिति पर रिपोर्ट मांगी है। आयोग ने कहा है कि 20 अप्रैल तक हर हाल में रिपोर्ट उपलब्ध कराएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here