नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोनावायरस को लेकर देश के नाम अपने संदेश में देश के लोगों से संक्रमण रोकने के उपायों कुछ समय मांगा है. उन्होंने कहा कि दुनिया इस महामारी की चपेट में है। मुझे देशवासियों से एक हफ्ते का वक्त चाहिए। हम कोरोना से बच गए, ये सोचना अभी ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि इस वैश्विक महामारी का मुकाबला करने के लिए दो प्रमुख बातों की आवश्यकता है. पहला- संकल्प और दूसरा- संयम. वैश्विक महामारी कोरोना से निश्चिंत होना सही नहीं है. इसलिए, प्रत्येक भारतवासी का सजग रहना, सतर्क रहना बहुत आवश्यक है, इन दो महीनों में भारत के 130 करोड़ नागरिकों ने कोरोना वैश्विक महामारी का डटकर मुकाबला किया है, आवश्यक सावधानियां बरती हैं. लेकिन, बीते कुछ दिनों से ऐसा भी लग रहा है जैसे हम संकट से बचे हुए हैं, सब कुछ ठीक है.

  • रविवार सुबह 7 से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू रहेगा. रविवार सुबह 7 से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू रहेगा. 22 मार्च को हमारा ये प्रयास, हमारे आत्म-संयम, देशहित में कर्तव्य पालन के संकल्प का एक प्रतीक होगा. 22 मार्च को जनता-कर्फ्यू की सफलता, इसके अनुभव, हमें आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार करेंगे.
  • संयम का तरीका है- भीड़ से बचना, घर से बाहर निकलने से बचना. आजकल जिसे Social Distancing कहा जा रहा है, कोरोना वैश्विक महामारी के इस दौर में, ये बहुत ज्यादा आवश्यक है
  • मेरा एक और आग्रह है कि हमारे परिवार में जो भी 65 वर्ष की आयु के ऊपर के व्यक्ति हैं, वो आने वाले कुछ सप्ताह तक घर से बाहर न निकलें
    इसी प्रकार 10 साल के बच्चे को भी घर से बाहर नहीं निकलने दें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here