पटना. मीठापुर सब्जी मंडी में गुरुवार को जिला प्रशासन के अधिकारी और सब्जी मंडी के विक्रेताओं के बीच जमकर हाथापायी हुई।

सब्जी मंडी के विक्रेता मजिस्ट्रेट के साथ गाली-गलौज कर उनको वहां से भगा दिया। मजिस्ट्रेट वहां से नहीं हटते तो दुकानदार उनकी पिटाई करने पर उतारु हो गए थे। मामले की सूचना मिलने पर पहुंची जक्कनपुर थाने की पुलिस ने आक्रोशित लोगों को किसी प्रकार से शांत कराया।


दरअसल, कोरोना काल में मीठापुर के सब्जी मंडी पर जिला प्रशासन पहले से भी लगाम लगाता रहा है। इस मंडी में खरीददारी करने वालों की भारी भीड़ जमा हो जाती है। भीड़ में फिजिकल डिस्टेंस मेंटेन नहीं होने की वजह से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा अधिक बढ़ जाता है। इसी वजह से डीएम के आदेश पर जिला प्रशासन सब्जी बेचने वालों और आलू-प्याज के दुकानदारों को अलग-अलग जगह पहले से ही अलॉट करवा चुकी है। बावजूद इसके दुकानदार मीठापुर मंडी में ही जमे है।

इस बात की सूचना मिलने पर जिला प्रशासन का धावा दल मजिस्ट्रेट अरविंद कुमार टीम के नेतृ्तव में मीठापुर सब्जी मंडी पहुंची। वहां पर भीड़-भाड़ को देख सबसे पहले सब्जी वालों को ही हटाना शुरू किया। जैसे ही प्याज-आलू के दुकानदारों के पास वो गए, वैसे ही उन लोगों ने कार्रवाई का विरोध शुरू कर दिया। मंडी के अधिकांश दुकानदार एक जगह पर जमा हो गए। मजिस्ट्रेट की तरफ से की जा रही कार्रवाई का विरोध करने लगे। मजिस्ट्रेट ने जब बल पूर्वक उनको हटाने का प्रयास किया वे लोग उनसे उलझ गए।

उनके साथ मारपीट और गाली गलौज करने लगे। इससे स्थिति तनावपूर्ण हो गई और पुलिस को बुलानी पड़ गई। तब जाकर मामला शांत हुआ। दुकानदारों का कहना था कि जिला प्रशासन की ओर से दिन के दो बजे से पहले ही दुकानें बंद कराया जाने लगा था। हम लोग इसका विरोध कर रहे थे। इधर, इस मामले में पटना के सिटी मजिस्ट्रेट का कहना है कि जब मजिस्ट्रेट डिटेल देंगे तो उस मुताबिक आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here