झारखंड में दुर्घटनाग्रस्त हुृई सांसद सुशील कुमार सिंह को स्कॉर्ट कर रही पुलिस की जीप।

औरंगाबाद के सांसद सुशील सिंह को स्कॉर्ट कर रही पुलिस जीप दुर्घटनाग्रस्त, दो की मौत

नक्सलियों का निशाना बनने से बचे सांसद, दो दिन बाद ही सड़क हादसे से हुआ सामना

औरंगाबाद (Goodmorning news desk)। औरंगाबाद के भाजपा सांसद सुशील कुमार सिंह बीत हफ्ते दो घटनाओं में बाल-बाल बच गए। विगत 30 दिसम्बर को दानापुर स्थित मिलिट्री इंटेलिजेंस यूनिट से मिले इनपुट की वजह से जहां सांसद पर होने वाली नक्सली हमले की साजिश विफल हो गई, वहीं नए साल के पहले ही दिन एक सड़क दुर्घटना में वे बाल-बाल बच गए। दरअसल सांसद को स्कॉर्ट कर रही पुलिस जीप झारखंड के पलामू जिले में दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इस सड़क हादसे में एक पुलिस जवान समेत दो की मौत हो गई। वहीं हादसे आधा दर्जन जवान जख्मी हो गए।
दुर्घटना के संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार सांसद सुशील कुमार सिंह को पलामू प्रमंडल के लातेहार के एक कार्यक्रम में भाग लेने जाना था। इसी को लेकर पलामू की छत्तरपुर पुलिस औरंगाबाद के सासंद सुशील कुमार सिंह को सुल्तानी घाटी के पास स्कॉर्ट करने गयी थी। इसी दौरान छतरपुर पुलिस का वाहन सुल्तानी से लौटने के दौरान बटाने मोड़ के समीप एनएच-98 पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें एक सिपाही की मौत घटनास्थल पर ही हो गयी। इस घटना में 6 से 7 पुलिस के जवान गंभीर रूप से घायल हो गये हैं। सभी घायलों का इलाज छत्तरपुर के अनुमंडलीय अस्पताल में चल रहा है।

सांसद पर नक्सली हमली साजिश को मिलिट्री इंटेलिजेंस ने किया विफल
इससे पूर्व औरंगाबाद सांसद सुशील कुमार सिंह पर नक्सली हमले की एक बड़ी योजना विफल हो गई थी। सांसद पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत बुधवार यानि 30 दिसंबर को गया जिले के इमामगंज प्रखंड के पथरा गांव जाने वाले थे । इसकी जानकारी मिलने पर बाइक सवार नक्सलियों की टीम हथियार और विस्फोटकों के साथ रानीगंज और पथरा के बीच सांसद पर हमला करने के लिए घात लगाए बैठी थी । नक्सलियों के मंसूबे का पता चलते ही मिलिट्री इंटेलिजेंस के अधिकारियों ने तुरंत इसकी सूचना बिहार पुलिस के वरीय अधिकारियों को देने के साथ ही सांसद से भी संपर्क किया ।
इस दौरान सांसद सड़क मार्ग से पथरा के लिए निकल चुके थे । मिलिट्री इंटेलिजेंस के अधिकारियों ने तुरंत उन्हें अपना कार्यक्रम रद्द कर वापस लौटने की सलाह दी । इसके बाद पुलिस के अधिकारियों ने भी सांसद से बात की जिसके बाद वह पथरा जाने की योजना छोड़ बीच रास्ते से वापस लौट गए । उधर नक्सलियों के इलाके में मौजूद होने की जानकारी मिलने के बाद पुलिस और सीआरपीएफ की अलग अलग टीमें छापेमारी में जुट गई थीं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here